कानपुर टेस्ट में विकेट को तरसे भारतीय गेंदबाज, दूसरे दिन न्यूजीलैंड 129/0, लाथम-यंग ने लगाई फिफ्टी

0
99

भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में खेले जा रहे पहले टेस्ट के दूसरे दिन का खेल समाप्त होने तक न्यूजीलैंड का स्कोर बिना किसी नुकसान के 129 रन है। कीवी ओपनर विल यंग 75 और टॉम लाथम 50 के स्कोर पर नाबाद हैं। इससे पहले टीम इंडिया अपनी पहली पारी में 345 रनों के स्कोर पर ऑलआउट हुई। न्यूजीलैंड फिलहाल भारत से 216 रन पीछे है। दूसरे दिन भारतीय टीम ने 57 ओवर की गेंदबाजी की, लेकिन एक भी विकेट नहीं चटका सके। NZ के दोनों ओपनर ने बहुत ही बढ़िया बैटिंग कर टीम इंडिया के गेंदबाजों पर दबाव बनाए रखा है।

यंग-लाथम ने बनाया रिकॉर्ड
दिसंबर 2016 के बाद से भारत में किसी भी मेहमान टीम की ओपनिंग जोड़ी की ये पहली शतकीय साझेदारी है। इससे पहले चेन्नई टेस्ट में एलिस्टर कुक और कीटन जेनिंग्स ने इंग्लैंड की दूसरी पारी में 103 रन जोड़े थे।

  • विल यंग ने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपने 5500 रन पूरे किए।
  • विल ने 88 गेंदों पर टेस्ट क्रिकेट में अपनी दूसरी फिफ्टी पूरी की।
  • टॉम लाथम का ये 21वां और भारत के खिलाफ छठा अर्धशतक है।

न्यूजीलैंड की ओपनिंग जोड़ी का भारत में सबसे बढ़िया प्रदर्शन

  • 231 रन: एम रिचर्डसन-एल विंसेंट, मोहाली 2003/04
  • 131 रन: एम हॉर्न-जी स्टीड, अहमदाबाद 1999
  • 129* रन: टॉम लाथम-विल यंग, कानपुर 2021

कानपुर में भारत के खिलाफ शतकीय साझेदारी बनाने वाली ओपनिंग जोड़ी

  • ग्रीम फाउलर-टिम रॉबिन्सन: 156 रन, 1985
  • सिदथ वेट्टीमुनी- रवि रत्नायके: 159 रन, 1986
  • विल यंग-टॉम लाथम: 129* रन, 2021
  • गजब का संयोग
    साल 2012-13 में जब इंग्लैंड भारत के दौरे पर आया था, तब ENG ने कोलकाता टेस्ट में भारत को पहली पारी में 350 रन के भीतर रोका था और फिर उसके सलामी बल्लेबाजों (एलिस्टर कुक-निक कॉम्पटन 165 रन) ने शतकीय साझेदारी की थी, जिसके बाद भारत हार गया था। उस मैच में भी भारत ने टॉस जीता था। इस मैच में भी भारत ने टॉस जीता और पहली पारी में 350 के अंदर ऑलआउट हो गई। वहीं, NZ के लिए टॉम लाथम और विल यंग 100+ रन जोड़ चुके हैं।

    साथ ही कानपुर टेस्ट के पहले दिन श्रेयस अय्यर 75 और रवींद्र जडेजा 50 पर नाबाद लौटे थे और दूसरे दिन विल यंग 75 और टॉम लाथम 50 पर नाबाद रहे।

    DRS पर बचे यंग
    35वें ओवर की चौथी गेंद पर रवींद्र जडेजा ने विल यंग के खिलाफ LBW की अपील की, जिसे अंपायर ने नॉटआउट दिया। कप्तान रहाणे ने DRS लिया और रिप्ले में गेंद स्टंप की लाइन से बाहर नजर आई। विल यंग को 58 के स्कोर पर जीवनदान मिला और टीम इंडिया ने अपना पहला रिव्यू गंवा दिया।

  • 345+ स्कोर के बाद कभी नहीं हारा भारत
    टीम इंडिया 345+ का स्कोर बनाने के बाद केवल एक बार घर में हारी है। 1998 में भारत ने बेंगलुरु टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले बल्लेबाजी करते हुए 400 रन बनाए थे। इस टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया ने इंडिया को 8 विकेट से हराया था। 345+ रन बनाने के बाद घर में भारत ने 32 टेस्ट जीते, 37 ड्रॉ हुए और सिर्फ एक टेस्ट हारा है।

    3 बार DRS पर बचे लाथम
    तीसरा ओवर फेंक रहे इशांत शर्मा की तीसरी गेंद पर टॉम लाथम के खिलाफ LBW की अपील हुई और अंपायर नितिन मेनन ने उन्हें आउट करार दिया। लाथम ने DRS लिया और रिप्ले में साफ नजर आया कि बॉल स्टंप की लाइन से बाहर जा रही थी। टॉम लाथम का रिव्यू लेने का फैसला उनके और कीवी टीम के लिए फायदेमंद रहा।

    14वें ओवर की आखिरी गेंद पर रवींद्र जडेजा ने लाथम के खिलाफ LBW की अपील की और एक बार फिर से अंपायर ने कीवी ओपनर को आउट दिया, लेकिन उन्होंने फिर DRS लिया और रिप्ले में नजर आया कि गेंद पहले लाथम के बल्ले पर लगी, उसके बाद पैड पर।

    56वें ओवर की आखिरी गेंद पर लाथम के खिलाफ अश्विन की गेंद पर विकेटकीपर कैच की अपील की गई और अंपायर ने फिर से अपना हाथ खड़ा कर दिया। लाथम ने तीसरी बार DRS लिया और रिप्ले में नजर आया कि गेंद कीवी ओपनर के बल्ले से लगी ही नहीं थी और जो आवाज आई थी वो लाथम के बैट और पैड के टच होने की थी। इस तरह टॉम लाथम तीसरी बार DRS के चलते आउट होने से बचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here