आधी रात में गिरी इमरान सरकार, शहबाज बोले- नई सुबह मुबारक; बिना मंजूरी कोई नहीं छोड़ सकेगा मुल्क

0
42

पाकिस्तान में करीब एक महीन से जारी सियासी घमासान फिलहाल थमता नजर आ रहा है। शनिवार-रविवार की दरमियानी रात इमरान खान की सरकार गिर गई। इसके पहले जबरदस्त ड्रामा हुआ। वोटिंग से बचने के लिए इमरान ने हर पैंतरा आजमाया। स्पीकर और डिप्टी स्पीकर के इस्तीफे भी करा दिए। विपक्ष ने नया स्पीकर चुना और फिर वोटिंग हुई।

वोटिंग में इमरान या उनका कोई समर्थक सांसद शामिल नहीं हुआ। 342 कुल सांसदों वाले सदन में वोटिंग के दौरान 174 सदस्य मौजूद थे। सभी ने इमरान के खिलाफ वोट दिया। विपक्ष के नेता शहबाज शरीफ ने बड़े भाई नवाज को याद किया और इसे पाकिस्तान के लिए नई सुबह बताया। बिलावल भुट्टो ने मुल्क से कहा- आप सभी को पुराना पाकिस्तान मुबारक हो। ये इमरान के नए पाकिस्तन के वादे पर करारा तंज था। अब शहबाज शरीफ की अगुआई में नई सरकार बनेगी। इस्लामाबाद में सेना तैनात कर दी गई है। देश का कोई भी नेता या अफसर बिना NOC के मुल्क नहीं छोड़ सकेगा। एयरपोर्ट्स को अलर्ट पर रखा गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने ऑर्डर दिया था कि अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग हर कीमत पर शनिवार रात 10 बजे तक होनी चाहिए। इमरान ने स्पीकर असद कैसर और डिप्टी स्पीकर कासिम सूरी को घर बुला लिया। 1 घंटे बाद ये संसद लौटे। विपक्षी नेताओं से मिले। कैसर ने उनसे कहा- मैं इमरान के खिलाफ वोटिंग नहीं करा सकता। हमारी 30 साल पुरानी दोस्ती है। मैं इमरान को इस तरह रुसवा होते नहीं देख सकता। चंद मिनट बाद इस्तीफा दिया और संसद छोड़ दी।

फौज भी एक्टिव
पूरी कार्यवाही के दौरान इमरान अपनी आलीशान ऐशगाह बनीगाला में ही बने रहे। रात 10 बजे के करीब आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा और ISI चीफ जनरल नदीम अंजुम उनसे मिले। क्या बात हुई, ये पता नहीं चला। लेकिन, इस मुलाकात के सिर्फ 10 मिनट बाद इस्लामाबाद की सड़कों पर फौज की गाड़ियां रफ्तार पकड़ते नजर आईं। खबर तो ये भी गर्दिश कर रही थी कि इमरान जनरल बाजवा को बर्खास्त करके पेशावर के कोर कमांडर और पूर्व ISI चीफ जनरल फैज हमीद को नया आर्मी चीफ बनाने जा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here