मृतक किसानों के परिजनों से मिले राहुल-प्रियंका; लवप्रीत के माता-पिता को सीने से लगा लिया

0
83

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा बुधवार देर रात लखीमपुर खीरी पहुंचे। यहां कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने हिंसा में मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात की। राहुल और प्रियंका सबसे पहले पलिया के चौकाघाट पहुंचे।

यहां इन्होंने शहीद किसान लवप्रीत (20) के परिवार से मुलाकात की। लवप्रीत के माता-पिता राहुल प्रियंका को देखकर रोने लगें। इसके बाद राहुल-प्रियंका ने लवप्रीत के माता-पिता को ढाढस बंधाते हुए अपने सीने से लगा लिया।

इसके बाद कांग्रेस का काफिला निघासन पहुंचा। राहुल और प्रियंका यहां पत्रकार रमन कश्यप (30) के परिवार से मिले। कांग्रेस नेता इसके बाद धौरहरा के गांव रमनदीन पुरवा के शहीद किसान नक्षत्र सिंह (65) के घर गए। बताया जा रहा है कि कांग्रेस नेता कल बहाराइच जा सकते हैं। वे यहां दलजीत और गुरविंदर के परिवार से मिलेंगे।

राहुल और प्रियंका के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, सांसद दीपेंद्र हुड्डा, केसी वेणुगोपाल, रणदीप सुरजेवाला और अजय सिंह लल्लू भी मौजूद हैं।

प्रियंका बोलीं- अजय मिश्र के मंत्री रहते न्याय नहीं हो सकता
प्रियंका ने मीडिया से बातचीत में बताया कि हमारा संघर्ष इन किसानों के संघर्ष के आगे कुछ भी नहीं है। पीड़ित परिवार को इंसाफ मिलना चाहिए। सिर्फ मुआवजा दे देने से कुछ नहीं होगा। प्रशासन को जल्द से जल्द केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र को गिरफ्तार करना चाहिए। अजय मिश्र के मंत्री रहते किसानों को कभी इंसाफ नहीं मिल सकता। केंद्रीय मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए ताकि मामले की निष्पक्ष जांच हो सके और पीड़ित परिवारों को न्याय मिल सके। राहुल गांधी ने बताया कि पीड़ित परिवार को न्याय मिलना चाहिए। आरोपी के पिता के मंत्री रहते यह मुमकिन नहीं है। कांग्रेस न्याय होने तक पीड़ित परिवारों के साथ खड़ी है।

राहुल सीतापुर से प्रियंका को लेकर लखीमपुर पहुंचे
इससे पहले राहुल लखनऊ से निकलने के बाद सीधे सीतापुर गेस्ट हाउस पहुंचकर प्रियंका गांधी से मिले। वे यहां करीब आधे घंटे रुके। इसके बाद दोनों भाई-बहन किसानों से मिलने के लिए लखीमपुर के लिए रवाना हुए थे। सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा नेता सतीश चंद्र मिश्र भी गुरुवार को लखीमपुर जाएंगे।

उधर, मुरादाबाद में कांग्रेस नेता सचिन पायलट और प्रमोद कृष्णम को सर्किट हाउस में पुलिस हिरासत में रखा है। दोनों नेता सड़क के रास्ते लखीमपुर जाने की कोशिश कर रहे थे। ये सुबह ही दिल्ली के रास्ते गाजीपुर बॉर्डर होते हुए उत्तर प्रदेश में दाखिल हुए थे।

राहुल-प्रियंका के काफिले में 17 गाड़ियाें को मंजूरी
प्रशासन ने राहुल-प्रियंका के काफिले में 17 गाड़ियाें को मंजूरी दी है। पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी दोनाें के साथ लखीमपुर निकले। कांग्रेस नेता दीपेंद्र सिंह हुड्‌डा, रणदीप सिंह सुरजेवाला, केसी वेणुगोपाल और अजय कुमार लल्लू किसान पीड़ित परिवारों से मिलने के लिए लखीमपुर गए हैं।

राहुल ले एयरपोर्ट पर दिया धरना
इससे पहले राहुल गांधी ने एयरपोर्ट पर ही धरना दिया। प्रशासन की तरफ से लखीमपुर जाने की इजाजत मिलने के बाद भी राहुल के धरने को लेकर भ्रम की स्थिति बन गई। इसके बाद छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि लखीमपुर तक अपनी गाड़ियों में जाने की इजाजत मिलने पर ही वे एयरपोर्ट से रवाना होंगे। काफी देर बाद प्रशासन ने इसकी इजाजत दी। इसके बाद राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी लखीमपुर के लिए रवाना हो गए।

प्रियंका गांधी 24 घंटे बाद रिहा
यूपी के लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों के परिजन से मिलने जा रहीं प्रियंका गांधी को गिरफ्तारी के 24 घंटे बाद रिहा कर दिया गया है और लखीमपुर जाने की इजाजत भी मिल गई है। प्रियंका को सोमवार सुबह सीतापुर में हिरासत में लेने के बाद मंगलवार को गिरफ्तार किया गया था। प्रियंका ने सोशल मीडिया के जरिए बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि किसानों को कुचलने वाले खुलेआम घूम रहे हैं। किसानों के लिए न्याय की आवाजों को भाजपा सरकार कैद कर रही है, लेकिन हम न्याय की आवाज दबने नहीं देंगे।

अमित शाह ने अजय मिश्र से मुलाकात की
लखीमपुर खीरी में हिंसा की घटना को लेकर मचे बवाल के बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र से मुलाकात की है। बता दें मिश्र के बेटे आशीष पर लखीमपुर खीरी में किसानों को गाड़ी से कुचलने का आरोप है और विपक्ष मांग कर रहा है कि अजय मिश्र को मंत्री पद से हटाया जाना चाहिए। दिल्ली पहुंचे अजय मिश्र से पत्रकारों ने जब सवाल किए कि विपक्ष आपका इस्तीफा मांग रहा है, तो वे बिना कुछ बोले आगे बढ़ गए। हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि अजय मिश्र से इस्तीफा नहीं लिया जाएगा। वहीं सूत्रों का कहना है कि उनके बेटे आशीष की जल्द गिरफ्तारी हो सकती है। किसान संगठन लगातार इसकी मांग कर रहे हैं और किसानों के दबाव के चलते सरकार एक्शन ले सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here